व्यापार

सोने को लगे ‘पर’ रिकॉर्ड हाई पर पहुँची कीमत, जानिए कितने में मिल रहा 10 ग्राम गोल्ड?

नईदिल्ली

 शादी का सीजन शुरू हो रहा है। इससे पहले सोना खरीदने वालों को तगड़ा झटका लगा है। सोने के रेट में आज शुक्रवार को जबरदस्त तेजी है। भारतीय सोना वायदा शुक्रवार को रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गया। शुक्रवार को सोना वायदा अगस्त 2020 में ₹ 56,191 के पिछले रिकॉर्ड को पार करते हुए ₹56,245 (691.45 डॉलर) प्रति 10 ग्राम हो गया। वहीं, सर्राफा मार्केट में 10 ग्राम सोना 157 रुपये महंगा होकर 56,254 रुपये पर पहुंच गया।

चांदी हुई सस्ती
चांदी की कीमतों में आज गिरावट है। एक किलो चांदी आज 115 रुपये सस्ती होकर 67,848 रुपये पर बिक रही है। कमजोर डॉलर और यू.एस. फेडरल रिजर्व द्वारा धीमी ब्याज दरों में बढ़ोतरी की उम्मीदों के समर्थन से नवंबर से सोने की दरों में तेजी आई है। गुरुवार को जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि दिसंबर में अमेरिकी उपभोक्ता कीमतों में दो साल से अधिक समय में पहली बार गिरावट आई है।

चारों महानगरों के दाम –
शहर         22K/10 ग्राम   24K/10 ग्राम
चेन्नई          ₹52,500           ₹57,250
दिल्ली         ₹51,750           ₹56,440
मुंबई           ₹51,600           ₹56,290
कोलकाता    ₹51,600            ₹56,290

जानिए क्यों महंगा हो रहा सोना?
गोल्ड की कीमतों में बढ़ोतरी की कई वजह है। दरअसल, भारत समेत दुनिया भर में महंगाई के मोर्चे पर थोड़ी राहत मिली है। अमेरिका में मुद्रास्फीति के आंकड़ों में कमी आई है। इसके अलावा यूएस फेड समेत दुनिया भर के सेंट्रल बैंक अब ब्याज दर पर नरमी दिखाने के संकेत दे रहे हैं। यही वजह है कि जो निवेशक अब तक मंदी की आशंका की वजह से गोल्ड में निवेश का रुख कर रहे थे, वो अब बच रहे हैं। गोल्ड की कीमतों पर अमेरिकी डॉलर के मूवमेंट का भी असर पड़ता है। बीते कुछ दिनों से डॉलर में भी नरमी आई है। अमेरिकी डॉलर सूचकांक सितंबर के 114 के उच्च स्तर से नरम होकर 102 के स्तर पर आ गया है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?
मेहता इक्विटीज लिमिटेड के वीपी कमोडिटीज, राहुल कलंत्री ने कहा कि अमेरिकी मुद्रास्फीति की रिपोर्ट बाजार की उम्मीदों के अनुरूप आने के बाद सोने की कीमतों में लगातार चौथे सप्ताह में बढ़त दर्ज की गई है। यह रिकाॅर्ड बढ़ोतरी  है। हालांकि, मेटल इस तेजी गति को बनाए रख सकती है या नहीं, यह फेडरल रिजर्व द्वारा अपनी फरवरी की बैठक में रेट वृद्धि के फैसले पर निर्भर करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button