रेलवे भर्ती बोर्ड की परीक्षा बिल्कुल पारदर्शी एवं निष्पक्ष

बिलासपुर/रायपुर
रेलवे भर्ती बोर्ड की परीक्षा बिल्कुल पारदर्शी एवं निष्पक्ष है एवं कदाचार मुक्त परीक्षा के लिए भारतीय रेल प्रतिबद्ध है। भारतीय रेलवे उन सभी परीक्षार्थियों से, जो कि रेलवे भर्ती बोर्ड के माध्यम से रेलवे में भर्ती के लिए परीक्षा दिला रहें हैं, से आग्रह करती है कि बिचौलियों, दलालों और जॉब रैकेटियर्स से सावधान रहें तथा योग्यता को सबल बनाएं, केवल योग्यता ही आपको रेलवे में नौकरी दिला सकती है।

उल्लेखनीय है कि है कि आरआरबी ने सीईएन आरआरसी 01/2019 लेवल 1 (पूर्ववर्ती समूह डी) भर्ती के लिए कंप्यूटर आधारित परीक्षा आयोजित करने के लिए एक प्रतिष्ठित कंपनी को नियुक्त किया है जिसमें 1.1 करोड़ से अधिक उम्मीदवार उपस्थित हो रहे हैं। 12 क्षेत्रीय रेलवे पर सीबीटी के तीन चरण पहले ही पूरे किए जा चुके हैं। चौथा चरण भी आज से शुरू हो गया है। किसी भी प्रकार की अनियमितता को रोकने और समाप्त करने के लिए सिस्टम में विभिन्न सुरक्षा उपाय और सुरक्षा प्रणाली उपलब्ध करवाई गई हैं। उम्मीदवारों को केंद्र का आवंटन कंप्यूटर लॉजिक के माध्यम से रेंडम रूप से किया जाता है। साथ ही, एक बार जब उम्मीदवार परीक्षा केंद्र पर रिपोर्ट करते हैं और अपना पंजीकरण कराते हैं, तो कंप्यूटर लैब और सीटों का आवंटन भी रेंडम रूप से किया जाता है। प्रश्न पत्र अत्यधिक एन्क्रिप्टेड रूप में है, और उम्मीदवार के अलावा कोई भी प्रश्न पत्र तक नहीं पहुंच सकता है, और वह भी एक बार जब उम्मीदवार परीक्षा शुरू होने के बाद कंप्यूटर में ओपन होता है। उम्मीदवारों को उपलब्ध कराए गए प्रश्न पत्र में प्रश्नों के क्रम को भी प्रश्न के लिए उपलब्ध चार विकल्पों के साथ रेंडम रूप में होता है। परीक्षा केंद्र में प्रत्येक उम्मीदवार के पास एक अलग प्रश्न पत्र होता है।

इसलिए यदि कोई दावा करता है कि वह किसी उम्मीदवार को उत्तर कुंजी प्रदान कर सकता है तो यह पूरी तरह से गलत, आधारहीन और भ्रामक है। भारतीय रेल सभी उम्मीदवारों के उज्ज्वल भविष्य की कामनाओं के साथ आग्रह करती है कि किसी भी बिचौलियों, दलालों और जॉब रैकेटियर्स की भ्रामक बातों में ना आयें तथा अपनी योग्यता से विशाल एवं प्रतिष्ठित भारतीय रेल परिवार का हिस्सा बनकर जनसेवा में भागीदार बनें।