बच्‍चे को मोटा और हेल्‍दी बनाने के लिए अपनाएं ये ट्रिक्‍स

कुछ बच्‍चे बहुत दुबले-पतले होते हैं और अपनी उम्र के हिसाब से इनका वजन बहुत कम होता है। बच्‍चों के अंडरवेट होने के कई कारण हो सकते हैं। जेनेटिक्‍स, ग्रोथ में बदलाव या कभी-कभी हाइट बढ़ने के कारण भी टॉडलर बच्‍चे अंडरवेट रह जाते हैं। जाहिर सी बात है कि बच्‍चे का दुबलापन माता-पिता के लिए टेंशन और स्‍ट्रेस का कारण होगा। अपने बच्‍चे के वजन को देखकर मां का मन चिंता में डूबा जाता है।

पैरेंट्स को अपने बच्‍चे की खानपान की आदतों और उसकी ग्रोथ और डेवलपमेंट की चिंता रहती ही है और उन्‍हें इस बात का भी डर रहता है कि आखिर किस तरह बच्‍चा अपनी उम्र के हिसाब से डेवलपमेंट माइलस्‍टोन को पूरा कर पाएगा। अगर आप भी अपने बच्‍चे के अंडरवेट होने को लेकर परेशान हैं तो यहां हम आपको कुछ ऐसे टिप्‍स दे रहे हैं जिनकी मदद से आपके बच्‍चे का हेल्‍दी वेट हो सकता है।

खाने का माहौल बनाएं
बच्‍चे टीवी देखते हुए, फोन पर बात करते हुए या कंप्‍यूटर चलाते समय खाना खाते हैं। इससे उसका ध्‍यान भटकता है और आपका जल्‍दबाजी में होना भी बच्‍चे पर प्रेशर डालता है। ऐसे में कई बार बच्‍चा खाने से ही बना कर देता है। आप अपने बच्‍चे के लिए खाने के लिए एक शांत माहौल बनाएं और खाते समय उसका सारा ध्‍यान बस खाने पर ही होना चाहिए।

​खाने का रूटीन
बच्‍चे के लिए खाने का रोज के लिए एक समय तय करें। इससे बच्‍चे को रेगुलर ईटिंग पैटर्न बन जाएगा। रोज समय पर खाना खिलाने से बच्‍चे का वजन बढ़ने में भी मदद मिलेगी। अगर बच्‍चा खेल रहा है तो उसे वहां से खींचकर लाने की बजाय, उसे वहीं कुछ हल्‍के स्‍नैक्‍स खिला दें।

​कैलोरी बढ़ाएं
कुछ बच्‍चे बहुत कम क्‍वा‍ंटिटी में खाते हैं इसलिए इनकी थाली में खाने की मात्रा बढ़ाने से कोई फायदा नहीं है। बेहतर होगा कि आप इनके खाने में हाई कैलोरी फूड्स को शामिल करें जैसे कि फुल-फैट डेयरी प्रोडक्‍ट्स, क्रीम चीज, मेयोनीज आदि।

​थोड़ा आसान बनाएं
ये जानने की कोशिश करें कि आपके बच्‍चे को क्‍या खाना पसंद है और आप उसे उसकी पसंद का खाना ही परोसें। अगर उसे केला मैश कर के खाना अच्‍छा लगता है, तो उसे केला वैसे ही दें।

​हेल्‍दी स्‍नैक्‍स ही खिलाएं
बच्‍चों की डाइट में स्‍नैक्‍स बहुत महत्‍वपूर्ण होता हैं। बच्‍चों के लिए हेल्‍दी फिंगर फूड के ऑप्‍शन रखें। इससे बच्‍चे की डेवलपमेंट माइलस्‍टोन की जरूरत पूरी होंगी। आप बच्‍चे को ग्रैनोला बार, पीनट बटर क्रैकर्स और सीरियल बार्स दे सकते हैं। ओट्स से भी हेल्‍दी स्‍नैक्‍स बन सकते हैं। बच्‍चे को घर पर बना ताजा फलों का जूस भी पिला सकते हैं।

​सप्‍लीमेंट ट्राई करें
आप डॉक्‍टर की सलाह पर अपने बच्‍चे की डाइट में कुछ वेट गेन सप्‍लीमेंट भी शामिल कर सकते हैं। विटामिन ए, सी और डी के सप्‍लीमेंट दिए जा सकते हैं।