घर की छत पर सालों से इकट्ठा कर रहा था कचरा, पड़ोसियों की शिकायत पर नगर निगम को बुलाने पड़े डंपर

मुरैना
यूं तो हम लोगों की सनक के अजीबो-गरीब किस्से आए दिन सुनते रहते हैं लेकिन अगर कोई सनक में अपने ही घर में कचरे का ढेर लगाने लगे, तो इसे क्या कहेंगे? जी हां! ऐसा ही एक मामला मुरैना शहर स्थित सदर बाजार में सामने आया है। जानकारी के मुताबिक, मुरैना के योगेश पाल गुप्ता नामक शख्स अपने घरवालों के साथ अपने पुश्तैनी मकान में रहते हैं। वह घर में परिजनों से अलग नीचे बने एक कमरे में रहते हैं। योगेश रोज सुबह जल्दी उठकर घर के बाहर गली की सफाई करते हैं, लेकिन इसका कूड़ा उन्होंने कभी निगम की कचरा गाड़ियों में नहीं डाला। गली साफ करने के बाद वह कूड़े को किसी पॉलीथिन या कट्टे में भरकर अपने घर ले जाते और छत पर डाल देते थे। यही नहीं, वह दिन में जब भी बाहर निकलते, बाजार से कूड़ा-करकट पॉलीथिन में समेट कर अपने घर ले आते थे। कूड़ा-करकट अपने घर मे जमा करने की सनक उनको बीते कई सालों से थी।

पड़ोसी और भाई ने की थी बदबू की शिकायत
बताया जा रहा है अजीब सी सनक वाले योगेश पाल गुप्ता की शिकायत दूसरी मंजिल पर रहने वाले उनके भाई ने की थी। आसपास के लोगों का यह भी कहना है कि आपस में आपस में दोनों भाइयों का पारिवारिक विवाद चल रहा है, इसलिए भाई को परेशान करने के लिए सबसे ऊपर वाली छत पर योगेश कचरा इकट्ठा कर रहा था। कुछ दिनों से उनके घर में रहने वालों को तेज दुर्गंध आने लगी तो भाई और पड़ोसियों ने ऊपर जाकर देखा। घर की छत पर कचरे का ढेर लगा हुआ था। कचरा सड़ने की वजह से उसमें से तेज बदबू आ रही थी। इसकी शिकायत उन्होंने जनसुनवाई में की।

निगम अधिकारियों ने छत पर जाकर देखा तो रह गए दंग
इस शिकायत पर नगर निगम का अमला उसके घर पर पहुंचा। निगम कर्मचारियों ने छत पर चढ़कर देखा तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं। यहां पर काफी मात्रा में कचरा पड़ा हुआ था। निगम कर्मचारियों ने एक जेसीबी तथा 5 ट्रैक्टर-ट्रॉली बुलाकर कचरा उठाने की कार्रवाई शुरू की। यह कार्रवाई बुधवार सुबह से शुरू होकर शाम तक चलती रही। इस दौरान निगम कर्मचारियों ने 5 डंपर कचरा उठवाकर बाहर फिंकवाया। छत पर आधा दर्जन से अधिक प्लास्टिक के ड्रम में नींबू के छिलके सड़ रहे थे।

गुरुवार को भी उठाया गया कचरा
नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी जगदीश टैगौर का कहना है कि सदर बाजार में एक घर से बुधवार को 5 डंपर कचरा उठाया गया है। अभी वहां पर और कचरा पड़ा हुआ है। शाम होने की वजह से कार्रवाई रोक दी गई थी लेकिन आज सुबह फिर सफाई कार्य शुरू किया गया है। यहां पर एक व्यक्ति सालों से अपने घर के अंदर कचरा इकठ्ठा कर रहा था। यह व्यक्ति मानसिक रोगी है, लेकिन परिजन इसे उसकी सनक बता रहे हैं।