इंदौर जू से गायब तेंदुआ 6वें दिन मिला

इंदौर

इंदौर जू से भागा तेंदुआ 6वें दिन रेस्क्यू कर लिया गया। मंगलवार सुबह तेंदुआ नवरत्न बाग इलाके में दिखाई दिया। जानकारी मिलने के बाद जू मैनेजमेंट और फॉरेस्ट डिपार्टमेंट की टीम ने तेंदुए को रेस्ट हाउस के पास से रेस्क्यू किया। नेपानगर से बुधवार रात इंदौर जू लाया गया लाया गया आठ महीने का तेंदुआ गुरुवार सुबह पिंजरे से गायब मिला था।

इंदौर जू 5 दिन बंद रहा। इससे यहां मैनेजमेंट को 5 लाख से ज्यादा का नुकसान उठाना पड़ा। जू प्रभारी डॉक्टर उत्तम यादव के मुताबिक जू में हर दिन 4500 के करीब टूरिस्ट आते हैं। संडे के दिन यह तादाद 22 हजार तक पहुंच जाती है। तेंदुए के गायब जोने के बाद जू 5 दिन बंद रहा। इससे 5 लाख से ज्यादा का नुकसान हुआ है।

बुरहानपुर के पास नेपानगर से बुधवार रात वन विभाग के 7 कर्मचारी तेंदुए को लेकर इंदौर आ थे। रात में ही जू के अफसरों से बात कर ट्रक को जू में खड़ा करवा दिया गया था। गुरुवार सुबह ट्रक में रखे पिंजरे में तेंदुआ नहीं मिला। जू मैनेजमेंट और फॉरेस्ट डिपार्टमेंट एक-दूसरे पर आरोप मढ़ रहे थे। जू मैनेजेंट का तर्क था कि तेंदुआ जू में लाने से पहले ही रास्ते में कहीं भाग गया। अगर जू से भागता तो पिंजरे पर ढंकी तिरपाल इधर-उधर होती या फिर फटी होती। वहीं, फॉरेस्ट डिपार्टमेंट तेंदुए के जू से ही भागने की बात कर लगातार सर्चिंग करा रहा था।