कॉलेजों ने वसूली दो हजार परीक्षा फीस, नर्सिंग स्टाफ 12 जून तक काली पट्टी बांधकर करेगा काम

भोपाल
उच्च शिक्षामंत्री डॉ. मोहन यादव ने प्रदेश के सभी विवि से परीक्षा फीस पर किसी भी प्रकार का विलंब शुल्क लगाने से लेने से मना किया है। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय ने 1200 रुपए की फीस जमा करने का नोटिफिकेशन जारी किया। इसके बाद भी बीयू के कॉलेजों ने विद्यार्थियों से दो-दो हजार रुपए जमा करा लिए हैं। आज फार्म जमा करने की अंतिम थी। क्योंकि कल से यूजी अंतिम वर्ष परीक्षाएं शुरू हो जाएंगी।
 
कोरोना संक्रमण में दो माह तक कोरोना कर्फ्यू प्रदेश में लागू रहा। इससे प्रदेशवासियों की आर्थिक स्थिति काफी लचर हो चली है। इसी को देखते हुए मंत्री मोहन यादव ने सभी विवि को आदेशित किया था कि किसी भी विद्यार्थी विलंब और विशेष विलंब शुल्क नहीं किया जाए। सभी विवि परीक्षा के एक दिन पहले तक फॉर्म जमा कराएंगे। इसके बाद सभी विवि ने आदेश भी जारी किए हैं।

फॉर्म जमा करने की प्रक्रिया आज भी चलन में हैं, लेकिन काूलेजों ने बीयू 1200 रुपए की परीक्षा फीस में 800 रुपए अपनी तरफ से जोड़ दिए हैं। वे विद्यार्थियों से दो-दो हजार रुपए की फीस जमा करने विद्यार्थियों को एसएमएस और व्हाटसअप में मैसेज भेज रहे हैं। इसके अलावा रुके हुए पेपर में भी उन्होंने दो-दो सौ रुपए बढ़ा दिए हैं।

आठ सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन
जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के बाद अब मप्र के 40 हजार से ज्यादा नर्सिंग और पैरामेडिकल स्टाफ के साथ वार्ड ब्वॉय और सफाईकर्मियों ने हड़ताल की तैयारी की है। हेल्थ डिपार्टमेंट अधिकारी कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह कौरव के अनुसार 8 सूत्रीय मांगों को पूरा कराने के लिए ये कर्मचारी आज से चरणबद्ध आंदोलन शुरू कर रहे हैं। इसके तहत 12 जून तक पूरे प्रदेश में ये कर्मचारी काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। 18, 19 और 21 जून को मरीजों से क्षमा याचना कर सहयोग मांगेंगे और फल वितरित करेंगे। 22 को अवकाश पर रहेंगे। इस पर भी जिम्मेदार नहीं जागे तो 25 से बेमियादी हड़ताल होगी।