बिहार के कौन से जिले में किस रूट पर चलेंगी इलेक्ट्रिक बसें जानिए 

पटना
बिहार की परिवहन मंत्री शीला कुमारी ने कहा कि बढ़ते प्रदूषण को सीमित रखने में इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन एक अच्छी पहल साबित होगी। वहीं परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि राज्य की जनता को सस्ती, सुलभ, सुगम, सुरक्षित एवं अत्याधुनिक सुविधायुक्त परिवहन सेवा उपलब्ध कराने के लिए फिलहाल कुल 82 बसों का परिचालन किया जा रहा है।

पटना से राजगीर और मुजफ्फपुर के लिए इलेक्ट्रिक बस
परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन पटना-राजगीर, पटना- मुजफ्फरपुर एवं पटना नगर सेवा के विभिन्न मार्गों पर किया जाएगा। इसके तहत पटना एयरपोर्ट, दानापुर, राजगीर, मुजफ्फरपुर को इलेक्ट्रिक बस से प्रथम चरण में जोड़ा जायेगा। संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि बिहार में 2 मार्च 2021 से इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन शुरु हो जाएगा। इसका शुभारंभ मंगलवार को संवाद भवन से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री रेणु देवी एवं तारकिशोर प्रसाद, भवन निर्माण विभाग मंत्री अशोक चौधरी और परिवहन विभाग मंत्री शीला कुमारी मौजूद रहेंगी। परिवहन विभाग मंत्री शीला कुमारी ने बताया कि इलेक्ट्रिक बसों के फ्लैग के साथ लक्जरी, डीलक्स एवं सेमी डीलक्स बसों को भी मुख्यमंत्री द्वारा रवाना किया जाएगा। वहीं परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि राज्य की जनता को सस्ती, सुलभ, सुगम, सुरक्षित एवं अत्याधुनिक सुविधायुक्त परिवहन सेवा उपलब्ध कराने के लिए कुल 70 बसों का शुभारंभ किया जा रहा है। इसमें 15 लग्जरी, 25 डीलक्स एवं 30 सेमी डीलक्स बसों का परिचालन बिहार के 43 विभिन्न मार्गों पर किया जा रहा है। इन बसों के परिचालन शुरु हो जाने से राज्य के सभी 38 जिले से राजधानी, पटना की कनेक्टिविटी हो जाएगी। जिला व प्रखंड मुख्यालय से राजधानी का सफर काफी आसान हो जाएगा।

मार्च के अंत तक और 25 इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन
परिवहन विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि पटना नगर बस सेवा और बिहार के विभिन्न मार्गों पर मार्च के आखिरी सप्ताह तक कुल 25 इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन शुरु हो जाएगा। इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन के लिए 09 मीटर के लंबाई वाले 15 इलेक्ट्रिक बस एवं 12 मीटर लंबाई के 10 इलेक्ट्रिक बसों की ओपेक्स माडल पर ली जा रही है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में 12 बसें निगम को मिल चुकी है। इन बसों का परिचालन पटना-राजगीर, पटना- मुजफ्फरपुर एवं पटना नगर सेवा के विभिन्न मार्गों पर किया जाएगा। शेष बसें 15 मार्च 2021 तक मिल जाएगी। परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल के अनुसार सभी इलेक्ट्रिक बसें वातानुकूलित एवं आधुनिक सुविधाओं से लैस है। इन बसों के परिचालन में होने वाले कैश गैप तथा इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण में होने वाले खर्च परिवहन विभाग द्वारा पूरी की जाएगी। परिवहन सचिव ने बताया कि 09 मीटर की लंबाई वाली 15 इलेक्ट्रिक बसें 37 सीटर, जबकि 12 मीटर लंबाई की 10 बसें 45 सीटर होंगी। बसों के अंदर इमरजेंसी गेट एवं इमरजेंसी विंडो की भी सुविधा उपलब्ध है।

एक बार चार्ज होने पर 250 किलोमीटर चलेगी बस
संजय अग्रवाल ने बताया कि इलेक्ट्रिक बसों को चार्ज करने के लिए परिवहन परिसर फुलवारी शरीफ में 1200 किलोवाट के चार्जिंग स्टेशन बनाए गए हैं। इसमें 120 किलोवाट के 6 चार्जिंग प्वाइंट एवं 240 किलोवाट के दो चार्जिंग प्वाइंट हैं। प्रतिदिन रात में इलेक्ट्रिक बसें चार्ज किये जाने के बाद वहीं से खुलेगी। उन्होंने इलेक्ट्रिक बस की विशेषता बताते हुए कहा कि एक बार चार्ज होने के बाद बस 225-250 किलोमीटर चलेगी। इसके अलावा बसें पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त और वातानुकूलित होने के साथ बसों में सीसीटीवी कैमरा (दो बस के अंदर और एक बाहर) भी लगे हैं। परिवहन सचिव के मुताबिक सभी बसों में तीन-तीन डिस्प्ले , पैनिक बटन फैसिलिटी, बस के अंदर यात्रियों को मोबाइल चार्ज करने की सुविधा, पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम, स्मार्ट टिकटिंग एवं इंटेलिजेंट व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम, इमरजेंसी बटन एवं एलार्म बेल की सुविधा भी है। उन्होंने बटन लग्जरी बस की विशेषता बताते हुए कहा कि ये बसें भी वातानुकूलित होने के साथ इसमें टू बाय टू पुशबैक, सीसीटीवी।, पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम, डिसप्ले बोर्ड, फायर फाइटिंग, इमरजेंसी गेट लगे हैं। इसके साथ ही सभी डीलक्स/सेमी डीलक्स बसों में भी वातानुकूलित, टू बाय टू पुशबैक, सीसीटीवी, पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम, डिसप्ले बोर्ड, फायर फाइटिंग मौजूद है।