जदयू की तरफ से राममंदिर निर्माण के लिए दिया गया 1 लाख 11 हजार 111 रुपये का दान

पटना
नीतीश कुमार की पार्टी जदयू की तरफ से सोमवार को राममंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि दी गई। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल और महासचिव देवेश कुमार की उपस्थिति में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने आरएसएस के पदाधिकारियों को 1 लाख 11 हजार 111 रुपये का चेक सौंपा। आरसीपी सिंह से चेक लेने के बाद आरएसएस के मोहन सिंह, रामनवमी और रमन प्रताप ने कहा कि भगवान श्रीराम किसी एक पार्टी के नहीं थे। वह तो सभी के लिए पूज्य थे। गौरतलब है कि संघ और बीजेपी के कुछ लोगों की मांग के बाद भी जदयू ने 2018 में स्पष्ट कर दिया था कि वह अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए अध्यादेश लाने के पक्ष में नहीं है। 

आरसीपी सिंह ने उस समय कहा था कि पार्टी अपने उस मुद्दे पर टिकी रहेगी जो उसने समता पार्टी के रूप में अपनाया था। राममंदिर का मामला या तो आपसी सहमति से या अदालत के फैसले से तय होना चाहिए। 2013 में एनडीए से बाहर जाने से पहले भी जदयू ने विवादित मुद्दों पर अपना रुख स्पष्ट रखा था। जदयू ने हमेशा इस बात पर जोर दिया कि अनुच्छेद 370, राम मंदिर और यूनिफॉर्म सिविल कोड को गठबंधन के एजेंडे से बाहर रखा जाना चाहिए। हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस मुद्दे पर चुप्पी बनाए रखी थी। वर्तमान जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने पिछले साल अपने ट्वीट में राम मंदिर भूमि पूजन का उल्लेख किया था। तब झा ने लिखा था कि सीता और राम मिथिला के हर निवासी के दिल में रहते हैं।