इंदौर के भार्गव ने सजाई थी संविधान की किताब

भोपाल
प्रदेश के बहुत ही कम लोग यह जानते होंगे कि देश के संविधान की किताब की डिजाइन में इंदौर का बहुत बड़ा योगदान रहा है। यहां के रहने वाले चित्रकार दीनानाथ भार्गव ने संविधान की किताब का पहला पेज पर प्रकाशित अशोक स्तंभ का चित्र बनाया था। इतना ही नहीं उन्होंने इस किताब के 50 अन्य पेजों को भी डिजाइन किया था।

दीनानाथ भार्गव को शांति निकेतन में संविधान के पन्नों, आउटलाइन को तैयार करने वाली टीम में शामिल किया गया था।  उस समय कला भवन के प्राचार्य नंदलाल बोस ने 12 छात्रों को इस काम के लिए चुना था। इसमें दीनानाथ भार्गव भी थे। उन्हें मुख्य पृष्ठ बनाने की जिम्मेदारी दी गई थी। वे शांति निकेतन से कोलकाता के चिड़ियाघर भी गए थे। वहां शेरों का अध्ययन करने के बाद उन्होंने अशोक स्तंभ के चिन्ह को तैयार किया। वे बताते थे कि संविधान के पहले पन्नों पर जो अशोक स्तंभ बना है, उसमें बीच में नर शेर है और एक ओर मादा और दूसरी ओर शावक का चित्र है।

इंदौर के पूर्व कलेक्टर राकेश श्रीवास्तव और उनकी पत्नी वंदिता ने दीनानाथ भार्गव की पद्मविभूषण पुरस्कार दिलवाने के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखा था और दस्तावेज भेजे थे लेकिन अब तक उस पर कुछ नहीं हुआ। तीन अक्टूबर 2017 को कौन बनेगा करोड़पति में भी अमिताभ बच्चन ने सवाल पूछा था कि संविधान की प्रतिलिपियों को किसने सजाया है? परिजन बताते हैं कि दीनानाथजी अक्सर कहते थे कि अभी भले सरकार की ओर से मुझे कोई सम्मान नहीं मिल पा रहा है, लेकिन उम्मीद है कि मरणोपरांत जरूर मिलेगा।