रेलवे इंजीनियर के घर सीबीआई का छापा अकूत संपत्ति, कैश और जेवर का खुलासा

नालंदा
बिहार में रेलवे का चीफ इंजीनियर 'काली कमाई का कुबेर निकला' है। सीबीआई की छापेमारी में ये खुलासा हुआ कि आरोपी इंजीनियर ने आय से 183 फीसदी अधिक कमाई कर ली। दरअसल CBI ने बुधवार को भ्रष्टाचारी अफसरों के खिलाफ देश व्यापी छापेमारी की थी। इसी छापेमारी में रेलवे के इस भ्रष्ट इंजीनियर की काली कमाई का खुलासा हुआ है।

इस इंजीनियर के ठिकानों पर सीबीआई की रेड
भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ देशव्यापी कार्रवाई के तहत बुधवार को सीबीआई ने पूर्व मध्य रेल, हाजीपुर में तैनात चीफ इलेक्ट्रिकल इंजीनियर (डिस्ट्रीब्यूशन) रविश कुमार के ठिकाने पर छापेमारी की। आय से 183 प्रतिशत अधिक संपत्ति मामले में यह कार्रवाई की गई है। पटना स्थित आवास और ससुराल के अलावा इंजीनियर के बिहारशरीफ स्थित पैतृक घर को भी खंगाला गया है। तलाशी में 76 लाख नगद के अलावा जमीन-मकान के 15 कागजात हाथ लगे हैं। करीब 50 लाख के सोने-चांदी के जेवरात भी बरामद होने की खबर है।

पटना के कुम्हरार स्थित संदलपुर-अलकापुरी के घर और पत्रकारनगर स्थित ससुराल से करीब 76 लाख रुपए मिले हैं। इनके ससुर लेबर कमीश्नर के पद से सेवानिवृति हैं। उनके यहां से भारी मात्रा में कैश बरामद हुआ है। सीबीआई को जमीन और मकान समेत निवेश के 15 दस्तावेज मिले हैं। बिहारशरीफ के आशा नगर स्थित पैतृक घर की तलाशी खबर लिखे जाने तक जारी थी।

पटना से दिल्ली-NCR तक में फ्लैट
हाजीपुर-खगौल में कई प्लॉट छापेमारी में इंजीनियर रविश कुमार के दो फ्लैट और कई प्लॉट का पता चला है। पटना के राजाबाजार के अलावा उत्तर प्रदेश के नोएडा में फ्लैट है वहीं सोनपुर और खगौल में कई प्लॉट मिले हैं। बुधवार देर रात तक सीबीआई की कार्रवाई जारी थी। इस काम में कई टीमों को लगाया गया था।

183 प्रतिशत आय से अधिक संपत्ति का मामला
पूर्व मध्य रेल, हाजीपुर में तैनात चीफ इलेक्ट्रिकल इंजीनियर (डिस्ट्रीब्यूशन) रविश कुमार ने अपने और परिजनों के नाम पर वर्ष 2009 से अक्टूबर, 2020 तक रेलवे में तैनाती के दौरान भारी मात्रा में चल-अलच संपत्ति बनाई। सीबीआई के मुताबिक वेतन और बाकी स्रोत से इस समय उनकी कुल कमाई 1.04 करोड़ रुपए होती है, जबकि पत्नी की कमाई 40 लाख के करीब है। इस दौरान उनका खर्च 67.41 लाख रुपए है। इसके हिसाब से उनकी बचत 76.59 लाख रुपए के आसपास होनी चाहिए। पर इसके मुकाबले उनके और परिजनों के नाम पर 3.40 करोड़ से अधिक की संपत्ति पाई गई है। 183 प्रतिशत आय से अधिक संपत्ति के मामले में प्राथमिकी दर्ज करते हुए बुधवार को तलाशी ली गई।