कोरोना का असर 7 माह बाद भी हवाई यातायात प्रभावित

भोपाल
राजधानी में लॉकडाउन के समय बंद हुई उड़ानें सात माह बाद भी फिर से शुरू नहीं हो सकी हैं। हालात इतने खराब हैं कि कुछ उड़ानें शुरू होने के बाद फिर से बंद हो गईं, जिन उड़ानों का शेड्यूल जारी हो चुका है वह भी शुरू नहीं हो पा रही हैं। लॉकडाउन की घोषणा से पहले ही कम किराए वाली एयरलाइंस स्पाइस जेट ने भोपाल से अपनी सभी उड़ानें बंद कर दीं थी।  कंपनी ने 21 मार्च को अपना बेस स्टेशन ही बंद कर दिया। यह कंपनी भोपाल से दिल्ली, मुंबई के अलावा अहमदाबाद, जयपुर, उदयपुर, सूरत, हैदराबाद एवं शिर्डी तक डायरेक्ट उड़ान संचालित करती थी।

यात्रियों को किफायती किराए में सीट मिल जाती थी। डीजीसीए ने 25 मार्च से देशभर में एयर ट्रैफिक पर रोक लगा दी थी। माना जा रहा था कि स्पाइस जेट रोक हटने के बाद भोपाल से बेस स्टेशन फिर से शुरू करेगा।  इंडिगो एवं एयर इंडिया ने कुछ उड़ानें शुरू कर दीं  थी पर स्पाइस जेट ने भोपाल आने से ही इनकार कर दिया। नतीजा यह निकला कि भोपाल से एक झटके में उदयपुर, सूरत, अहमदाबाद, शिर्डी का कनेक्शन कट गया।

बजट एयरलाइंस इंडिगो लॉकडाउन से पहले भोपाल से दिल्ली तक चार एवं मुंबई तक तीन उड़ानें संचालित कर रहा था। वर्तमान में दिल्ली तक दो एवं मुंबई तक केवल एक उड़ान चल रही है। कंपनी सूरत, अहमदाबाद, आगरा एवं प्रयागराज उड़ान का शेड्यूल जारी कर चुकी है पर उड़ान शुरू नहीं हो सकी।  इसी तरह  एयर इंडिया भोपाल से दिल्ली एवं मुंबई तक दो-दो उड़ानों का संचालन कर रहा था। अब केवल एक-एक ही उड़ान है। पुणे, जयपुर एवं रायपुर उड़ान मार्च से ही बंद है। जयपुर-रायपुर उड़ान का शेड्यूल जारी हो चुका पर उड़ान नहीं है।

कोरोना संक्रमण काल से पहले एयर एशिया गो एयर और ट्रू जेट जैसी एयरलाइंस ने उड़ानें शुरू करने में रुचि दिखाई थी। सपोर्ट भोपाल फॉर एयर कनेक्टिविटी अभियान टीम के आग्रह पर तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गो एयर के डायरेक्टर नेस वाडिया से चर्चा कर नए रूट पर उड़ानें शुरू करने का न्यौता दिया था। एयर एशिया ने भी सर्वे किया। ट्रू जेट ने दक्षिण भारत का कनेक्शन जोड़ने में रुचि दिखाई पर कोरोना के कारण एक भी कंपनी ने उड़ान शुरू नहीं की।