राज्य सरकार आत्म मुग्ध व सत्ता के दंभ में चूर – डॉ रमन

रायपुर
छत्तीसगढ़ भाजपा कार्यसमिति की वुर्चअल बैठक सोमवार की सुबह पार्टी के देवपुरी स्थित कुशाभाऊ ठाकरे प्रदेश कार्यालय में संपन्न हुई। प्रदेश कार्यसमिति की इस बैठक को केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी संबोधित किया। वे इस बैठक में दिल्ली से आॅनलाईन शामिल हुए थे।
बैठक को संबोधित करते हुए भाजपा के वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने राज्य की भूपेश बघेल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सरकार आत्ममुग्ध और दम्भ से चूर, सत्ता के मद में है सरकार की ये प्रवृति नवरात्र में ही दिखती है, रावणी प्रवृति है ये,अहंकार से चूर शक्तियां हैं, जनता रूपी दुर्गा की शक्ति इसका मर्दन करती है, अभी वही समय है।

इससे पूर्व छत्तीसगढ़ बीजेपी की कार्यसमिति की वर्चुअल बैठक को संबोधित करते हुए केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि मैं अपने को छत्तीसगढ़ का मानता हूं,छत्तीसगढ़ ने मुझे बहुत सिखाया। प्रदेश सरकार को अपने युवराज की चिंता है। जब जब कांग्रेस के हाथ जिम्मेदारी मिली किसानों की चिंता बढ़ी है। गरीबों को चांवल पहुंचाने की शुरूआत छ्त्तीसगढ़ ने शुरू की थी जिसे पूरे भारत ने अपनाया है। आने वाले दिनों में छत्तीसगढ़ के उत्पाद और अनाज विदेशी बाजार में बिकेगा।

कृषि संशोधन कानून में इसकी व्यवस्था है। इस कानून का सबसे ज्यादा लाभ छ्त्तीसगढ़ को मिलने वाला है। धर्मेन्द्र प्रधान ने भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में घोषणा की। कहा कि दस हजार करोड़ का इथेनॉल चावल से बनाएंगे, जिसका सबसे अधिक लाभ छत्तीसगढ़ का होगा।
भाजपा कार्यसमिति के नए सदस्य बैठक में शामिल हुए। भाजयुमो अध्यक्ष अमित साहू , भाजपा अनुसूचित जाति के अध्यक्ष नवीन मार्कण्डेय , अनुसूचित जनजाति अध्यक्ष विकास मरकाम , प्रदेश मंत्री प्रवल प्रताप सिंह , मीनल चौबे पहली बार कार्यसमिति में शामिल हुए। बैठक में कार्यकतार्ओं ने महिला उत्पीडऩ और राजनीतिक अव्यवस्थाओं पर अपनी-अपनी राय व्यक्त की। केंद्र सरकार द्वारा किसानों के हित में लागू किए गए नये कृषि कानून के बारे में राज्य के पूर्व कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने अपने विचार व्यक्त किए और कहा कि इस नये कृषि कानून से किसानों की हालत में सुधार आयेगा। बैठक में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु देव साय प्रतिपक्ष के नेता धरमलाल कौशिक सहित अन्य पदाधिकारी शामिल हुए।