आर्टिकल 370 पर बीजेपी और कांग्रेस में वार-पलटवार, चिदंबरम बोले- बहाल हो, नड्डा ने कहा- बिहार चुनाव से पहले गंदी चाल

नई दिल्ली
अनुच्छेद 370 की बहाली को लेकर कांग्रेस ने फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती का समर्थन किया है। जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे की बहाली की मांग को लेकर वहां के मुख्य राजनीतिक दलों के गठबंधन का समर्थन करते हुए कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि केंद्र सरकार को आर्टिकल 370 के विशेष प्रावधान हटाने संबंधी फैसलों को निरस्त करना चाहिए। चिदंबरम पर पलटवार करते हुए बीजेपी चीफ जेपी नड्डा ने कहा कि यह बिहार चुनाव से पहले गंदी चाल है।

राहुल गांधी और पी. चिदंबरम पर साधा निशाना
कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम के ट्वीट को लेकर बीजेपी चीफ जेपी नड्डा ने जबरदस्त पलटवार किया है। नड्डा ने ट्वीट किया- 'चूंकि कांग्रेस के पास बात करने के लिए कोई सुशासन का एजेंडा नहीं है, इसलिए वे बिहार चुनाव से पहले अपने ‘डिवाइड इंडिया’ की गंदी चाल पर वापस आ गए। राहुल गांधी ने पाकिस्तान की प्रशंसा की और चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस चाहती है कि आर्टिक 370 बहाल हो! शर्मनाक!'

ट्विटर पर ट्रेंड होने लगा आर्टिकल 370
आर्टिकल 370 को लेकर पी. चिदंबरम पर बीजेपी चीफ जेपी नड्डा के पलटवार के बाद ट्विटर पर आर्टिकल 370 ट्रेंड करने लगा। खबर लिखे जाने तक आर्टिकल 370 को लेकर ट्विटर पर 6,998 ट्वीट किए जा चुके थे।

चिदंबरम ने कहा था- जम्मू-कश्मीर के लोगों को अलगाववादी के नजरिए से देखना बंद हो
पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट किया, 'जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के अधिकारों की बहाली के लिए संवैधानिक लड़ाई लड़ने के मकसद से वहां के क्षेत्रीय दलों का साथ आना एक ऐसा घटनाक्रम है जिसका भारत के सभी लोगों को स्वागत करना चाहिए।' उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार को इन मुख्यधारा की पार्टियों और जम्मू-कश्मीर के लोगों को अलगाववादी और देश विरोधी होने की नजर से देखना बंद करना चाहिए।

'निरस्त होना चाहिए 5 अगस्त 2019 के अंसैवाधानिक फैसले'
कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा, 'कांग्रेस दर्जे और जम्मू-कश्मीर के लोगों के अधिकारों की बहाली के लिए संकल्पबद्ध खड़ी है। सरकार को 5 अगस्त, 2019 को लिए गए मनमाने और असंवैधानिक फैसलों को निरस्त करना चाहिए।'

फारूक अब्दुल्ला के घर बैठक में महबूबा मुफ्ती भी थीं मौजूद
गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में मुख्य धारा के राजनीतिक दलों ने गुरुवार को एक बैठक किया और पूर्ववर्ती राज्य के विशेष दर्जे की बहाली के लिए एक गठबंधन बनाया। यह गठबंधन इस मुद्दे पर सभी संबंधित पक्षों से वार्ता भी शुरू करेगा। नैशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के आवास पर बैठक हुई थी जिसमें पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती, पीपल्स कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन, पीपल्स मूवमेंट के नेता जावेद मीर और माकपा नेता मोहम्मद युसूफ तारिगामी ने भी हिस्सा लिया था।